अवधी लोकगीत-३ : कंकर मोहें मार देइहैं ना..(कंठ : शुभा मुद्गल)

   कंकर मोहें मार देइहैं ना.. कंकर लगन की कछु डर नाहीं, गगर मोरी फूट जइहैं ना.. कंकर मोहें मार

Read more