कविता: ‘सहर कै बिटिया, गाँव के पतोहू’ (कवि: रामनरेश त्रिपाठी,१९५६)

  खड़ी बोली हिन्दी के द्विवेदी युगीन कवियन मा गिना जाय वाले सिरी रामनरेश त्रिपाठी यहि  अवधी कविता ‘सहर कै बिटिया,

Read more