पाहीमाफी [११] : भेदभाव गहिर-घाव

आशाराम जागरथ रचित ग्रामगाथा ‘पाहीमाफी’ के  “पहिला भाग” ,  दुसरका भाग  , तिसरका भाग , चौथा भाग , पंचवाँ भाग , ६-वाँ भाग७-वाँ भाग८-वाँ भाग , ९-वाँ भाग, १०-वाँ भाग  के सिलसिले मा हाजिर हय आज ई ११-वाँ भाग :


जौन चीज कवि जागरथ क दूसर अवधी के गाँव के लिखैयन से अलग करत हय, ऊ हय इन कय ‘दिस्टिकोन’। यानी देखय कय नजरिया। प्वाइंट आफ बिउ। यही से, उहै गांवै वाला नजारा, दिस्टिकोन बदलि जाये से अलग नजारा लागय लागत हय। जैसे कोल्हू के लगे कय नजारा देखौ। दलित दिस्टिकोन से अलग सोचय वाला कौनौ लेखक रहत तौ ऊ हुवाँ मह-मह महकत गुलौरी से निकरा गरम गुड़ चुभलावन-रसरंजन करत वाह-वाह करत निकरि आवत। मुला जागरथ अपने अलग नजरिया के कारन हुआँ ‘घूरे चमार’ कय दुख टिकाय देहे अहयँ, जेहका महसूसे के बाद गरम गुड़ कय महकि औ सुवाद दुइनौ असलील लागय लागत हय :  

सोचैं, ठाढ़े घूरे चमार
हमसे अच्छे कूकुर-बिलार
हरवाही करत लड़कपन से
जिनगी रेंगा होय गै हमार!

यक औरौ चीज जागरथ केरी आज की यहि प्रस्तुति मा जहिरानि अहय। ऊका कहत हयँ, ‘पैराडाक्स’ देखाय के सभ्यता कै चीर-फाड़ करब। यहिकय पाखंड उजागर कयि दियब। पैराडाक्स, यानी बिरोधाभास देखाइ के। जैसे जौने कोल्हू पय घूरे चमार का मिनहां कीन जात अहय कि हर्सि न छुयेव, वही जगह बैलवन क कौनौ मनाही नाहीं ना। मनई से जादा पेवर अहयँ बर्ध। इहय समझि आय जौन आज के दिनन मा गौ-रच्छा के नाव पै मनइन क मौति के घाट पहुँचावति अहय। दूसर पैराडाक्स देखौ कि दोस्त के घर गवा ‘अछूत’ दोस्त केसेस बेरावा जात अहय। वहिका बर्तन तक नाहीं नसीब करावा गा खाय के ताईं। भुइयाँ मा खंता खनिके, केरा कय पाता दुनफर्तियाइ के खाइस ऊ। मुला भिनसारे ऊ का देखिस? देखिस कि जौने थरिया का वहसे बेरावा गा, वहिकै बारी कानी कुकुरिया चाटति बाय। मनई कुकुरौ-बिलार से गवा-गुजरा बनाय दीनि गा, इहै जात-परपंच के कारन। ई देखेक बादि, साथी, दुवा-बंदगी कय औपचारिकता भुलाय दियय तौ ठीकय हय। कम से कम ऊ दुवा-बंदगी के पाखंड से अपनेक्‌ बचायिस : 

फिर नजर परी दालानी मा
ऊ आँख फारि कै देखअ थै
कानी कुतिया मल्लही येक
थरिया कै बारी चाटअ थै
ना दुआ-बंदगी केहू से
चुपचाप चला गै चुप्पे मा….

यहि अंक से अब सीधे रूबरू हुवा जाय। : संपादक
_________________________________________________

  • भेदभाव गहिर-घाव 

बोले ठाकुर पीकै दारू
अब चलब-फिरब होय गै भारू
छापी धोती, चप्पल पहिरैं
शूदे-चमार कै मेहरारू
सावां-कोदौ अब अंटकअ थै
मागैं मजूर भरि कै थारी
गोहूँ कै रोटी, दाल-भात
आलू-गोभी कै तरकारी
यक उहौ ज़माना रहा खूब
दिन भर कुलि खटैं बेगारी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

जो कहत हयी भोगे बाटी
हम ज़हर कै घूँट पिये बाटी
भुखमरी – गरीबी – छुआछूत
दूनौ आँखी देखे बाटी
यक जनी जाति से ऊँच रहिन
कूँआ से पानी भरत रहिन
हम झम्म से बल्टी डारि दिहेन
वै आपन पानी फैंकि दिहिन
बोलिन, केतनौ पढ़ि-लिखि लेबा
पर अकिल ना आई जिनगी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

अब आगे मजे कै हाल सुनौ
वनके छपरा मा आगि लाग
हम ह्‌वईं बगलियें खड़ा रहेन
पानी डारैं सब भाग-भाग
देखअ थौ काव तू खड़ा-खड़ा
अगवैं तौ गगरा धरा बाय
झट बोलेन काव करी काकी
हमरे जाती मा छूत बाय
बोलिन वै छूतछात नाहीं
संकट, आफ़त औ’ बीपत मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

मंदिर हरि-कीर्तन होत रहा
औ ढोल मजीरा बजत रहा
हुवयँ बीच थपोड़ी पीट-पीट
गावत मन डूबा मस्त रहा
यक पढ़ा-लिखा नौकरिहा बाभन
दूर से हम्मै देखि लिहिस
गुस्साय कै बोला भाग जाव
औ कान पकरि कै खींच लिहिस
‘अन्हराय गया है सब कै सब
धोबिया बइठा बा बीचे मा’
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

कुछ अच्छे बाभन साथ रहे
वनके घर आवत-जात रहेन
खटिया के गोड़वारी बइठा
हम गीत-कहानी सुनत रहेन
तोनी पै सरकावत धागा
यक ‘मधुरी बानी’ आइ गये
बइठा देखिन खटिया ऊपर
उलटे ही पाँव वै लउट गये
साथी बोला घर जिन आवा
सबकै सब डांटत हैं हमकां
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

बजरंग बली कां बचपन मा
परसाद चढ़ायन भेली कै
लइकै घूमी आगे सबके
केऊ ना लियै हथेली पै
पंडित जी बोले रहै दिऔ
तोहरे हाथे मा छूत बाय
दइ देत्या ‘कहरा’ बाँट दियत
ऊ तुहरे जाति से ऊँच बाय
भेली तौ वही, मिठास वही
परसाद बँटा बहु-जाती मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

इस्कूले साथे पढ़त रहे
जाती मा तनिका ऊँच रहे
वनके घर चला गयन यक दिन
देखतै वै खूब निहाल भये
तख्ता पै गद्दा बिछा रहा
मुड़वारी तकिया धरा रहा
दुइ टुटही कुरुसी परी रही
बइठका नीक खुब बना रहा
वल्ले बुढ़ऊ खांसैं खों-खों
रहे मनबढ़ येक जमाने मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

पितरी के लोटा मा पानी
साथी कै बहिनी लइ आई
हम गट-गट पियत रहेन तइसै
डांटै लागीं बड़की माई
लोटा मा अइसन छूत लगा
घर-भीतर हाहाकार मचा
मितऊ कै महतारी बोलिन
हमरे कामे कै ना लोटा
लइ जा बेटवा! तू घर लइ जा
धइ ल्या तू अपने झोरा मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

कसि कै दाँते काटी रोटी
दुई छूत – अछूत रहे साथी
हे नीम! छाँह मा तोहरे हम
खीसा सच बइठ सुने बाटी
‘छुतऊ’ कै बैल तुराय गवा
साथे – साथे हेरै निकरे
हेरत – हेरत संझा होय गय
घर लौटे बैल दुवौ पकरे
साथी बोला कि रुकि जात्या
कहवाँ जाब्या अब राती मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

राती जब खाना खाय क् भवा
यक बड़ा अड़ंगा बाझि गवा
टुटहा ज़स्ता वाला बरतन
पिछवारे कहूँ लुकाय गवा
घर-मलकिन बोलीं काव करी
बनये हम हई दाल – रोटी
उप्पर से दलियौ पातर बा
केरा कै पाता ना रोकी
हम कहत रहेन कि जाय दिया
तोहरे सब रोकि लिह्या वोकां
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

चुप रहौ कतौ ना करौ फ़िकर
अब्बै जुगाड़ कुछ करिबै हम
बोले बुढ़ऊ बाबा अहीर
बुद्धी मा अबहूँ बा दमख़म
फंड़ियाय कै धोती खटिया से
उतरे लइकै लमका खुरपा
तनिका वहरी से पकरि लियौ
घुसकाइब हम छोटका तख्ता
खोदिन यक बित्ता गड्ढा वै
मड़हा के कोने भूईं मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

केरा कै पाता दोहरियाय
गड्ढा मा हलके से दबाय
तइयार अजूबा भै बरतन
बोले अब मजे से लियौ खाय
ऊ रहा भुखान सवेरे कै
कुछ भुनभुनाय आवाज़ किहिस
इज्ज़त – बेलज्ज़त भूलि गवा
मूड़ी नवाय कै खाय लिहिस
साथी बोला बाहर निकरा
ल्या पानी पिया अँजूरी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

भिनसारे उठि कै चलै लाग
भैंसिया बहुत अफनात रही
पितरी के बड़े ‘पराते’ मा
बसियान खाब ऊ खात रही
फिर नजर परी दालानी मा
ऊ आँख फारि कै देखअ थै
कानी कुतिया मल्लही येक
थरिया कै बारी चाटअ थै
ना दुआ-बंदगी केहू से
चुपचाप चला गै चुप्पे मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

कातिक-अगहन हँसै सिवान
जोतै हर केव काटै धान
चिखुरी चिखुरैं, छोलैं घास
केउ खेते मा फेकै खाद
चटक चाँदनी, आधी रात
गूला भीतर दहकै आग
दूर-दूर तक गम-गम गमकै
खौलै रस जब, फूलै पाग
आलू-सेम कै सुन्दर माला
पाकै टंगा कड़ाहे मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

कोल्हू कै बैल कोल्हारे मा
उखुड़ी पेरैं टुक-टुक ताकैं
सुरती दाबे घूरे चमार
पाछे-पाछे कोल्हू हाकैं
वनकै लरिका ओढ़े चादर
पलथी मारे उखुड़ी दाबै
बइठे- बइठे औंघांय जाय
जे देखि लियै कसि कै डाँटै
लरिकन कै टोली मड़िरियाय
पहिला परसाद मिली सबकां
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

झुलनी झमकावत आय परीं
गोरहरकौ दुलहिन बखरी कै
बोलिन घूंघुट आधा काढ़े
ताजा रस चाही उखुड़ी कै
लरिका कां तनी उठाय दियौ
हम लियब चुहाय खुदै काका!
रस रोपत हई दूर होय जा
दूरै से बैलन कां हांका
भूले से छुया न हर्स – बैल
जब तक रस भरै न बल्टी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

सोचैं, ठाढ़े घूरे चमार
हमसे अच्छे कूकुर-बिलार
हरवाही करत लड़कपन से
जिनगी रेंगा होय गै हमार
उखुड़ी पेरे से रस निकरै
खोहिया भी कामे आवअ थै
हम जाँगर पेरी रोज़-रोज़
तबहूँ सब छूत मनवाअ थै
ई बैला हमसे नीक बाय
ना सोच-विचार रखै मन मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा.

__आशाराम जागरथ

[जारी….]

Leave a Reply

Your email address will not be published.