पाहीमाफी [९] : उलौहल-कनफुसौवल

आशाराम जागरथ रचित ग्रामगाथा ‘पाहीमाफी’ के  “पहिला भाग” ,  “दुसरका भाग”  , तिसरका भाग , चौथा भाग , पंचवाँ भाग , ६-वाँ भाग७-वाँ भाग८-वाँ भाग के सिलसिले मा हाजिर हय आज ई ९-वाँ भाग :   17439871_399423837084206_1780308018_n

अछूते अहसासन क समाउब पाहीमाफी-कार कय खूबी हय। धरम-परपंच, बिरादराना अहंकार, सासन-सत्ता कय नाकामी जईस बातन कय चर्चा तौ आये दिन होतिन रहत हय मुला संवेदना के धरातल पै नये अहसासन से  यहिकय मर्म रखय कय काम खासी चुनौती से भरा अहय। ई चुनौती जागरथ स्वीकार करत हयँ। हियाँ इन बिसयन पै जौने प्रसंगन कय चर्चा कीन गय अहय; वय केहू गाँव के रहवैया कय सच होइ सकत हयँ। यहि प्रस्तुति के स्टैंजन क पढ़त के कयिउ चेहरै आप केरी आंखी के तरे से गुजरि जैहैँ। कयिउ चपरहन कय नाव याद आवय लागे। यहि बिन्यास मा ई सब आउब अवध सहित समूच्चै भारत कय संवेदना क झकझोरब आय। ढेर का कहा जाय, आप सीधे कविता से रूबरू हुआ जाय। : संपादक

________________________________________________________

  • उलौहल-कनफुसौवल

तू वनके साथे खड़ी रह्यू
हँसि-हँसि काहे बतियात रह्यू
बोलिस, बड़कऊ तू चला जाव
नाहीं पइबा मुँह भरि कै तू
घूमौ तू  बाग़-बगीचे  मा
मुँह देख लिहौ तनि सीसे मा
जो करत हया ऊ करत रहौ
बोल्यो  जिन हमरे बीचे मा
सब जानअ थै तू काव हया
हल्ला बा देश-जवारी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

‘भागौ तू बहिनी नीक हयू
हमरे बारे मा बात कह्यू !’
वोरहन लइकै ‘उतरहा’ गयिन
काहे तू अइसन कहत रह्यू ?
‘नाहीं कुछ बोलेन मान जाव
तुहुँसे ना कउनौ बैर-भाव’
तब कहिन कि गंगा जल लइकै
बड़के बेटवा कै कसम खाव
बोलिस ‘पहिले वन्हैं लावा जे
आग लगाइस बीचे मा’
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

हम कहत हई कि झूठ हुवै
हमारौ भी कहा मान जात्यू
सतुवा-पिसान लइकै हमरे
पीछे तू बहुत परी बाट्यू
यक्कै बेटवा हमरे बाटै
वोकर किरिया हम ना खाबै
वनकां हम ढंग से जानिअ थै
जे कान तोहार भरत बाटै
अल्गट्टे मिल्यू तो बतलायिब
जिन आयू वनके बाती मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

अब काव कही मन हुलरत बा
बतिया पेटवा मा पचत न बा
बइठब ना बहिनी जाय दियौ
बटुली मा अदहन खौलत बा
काने मा कइकै खुसुर-पुसुर
वै हुवां से जल्दी भाग लिहिन
ठोकैं माई माथा आपन
सुनतै ही खड़े झुराय गइन
यक बिटिया रही कुँवारी लेकिन
लरिका वोकरे पेटे मा
यक तनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

भूले नहीं भुलाये जात
काली थान्हें वाली बात
जहाँ पे राही सीस झुकावैं
लोगै जल कै धार चढ़ावैं
चढ़ै कड़ाही पूड़ी-लपसी
लोगै जाय मनौती मानैं
लाल लँगोटी चन्दन धारी
गाँवै कै यक सुन्दर नारी
दूनौ जन माई के कोठरी
राती के अन्हियारी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

हल्ला होय गय कानो-कान
लोगै बोलैं दबी जुबान
पकरि गयीं वै रंगे हाथन
काव करैं जब रहीं जवान
महादेव कां धार चढ़ावैं
धरम-करम कै पाठ पढ़ावैं
भीतर पाकै खूब गुलगुला
बाहर छूआछूत मनावैं
के मनई बान्ही कुदरत कां
जात – पात के रसरी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बहिनी ! अब तुहुंसे काव कही
यक बात सुनेन अपने काने
हरवाहे साथे भागि रहीं
बइठाई बाटीं वै थाने
घर तरी-तापड़ी, नगद धरा
लइ भागा, हाथ सफा कइगै
उप्पर से नमक हराम चपरहा
पाँव बहुत भारी कइगै
अब होई काव दयू जानै
भै काम बुरा नादानी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

ऊ सुवर चरावै आय रही
पेड़े के तरे छहाँत रही
लहचोरा, पिपरे कै गोदा
चटकारा दइकै खात रही
यक बड़ा-बड़कवा आय गये
सन्हें से सनकारै लागै
जब बात सुनिस नाहीं वनकै
छपकी लइकै मारै लागे
बोले तू हियाँ से भाग जाव
फिर गोड़ धरिव न खेते मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

बतिया मन-भीतर धरे रही
बस खाली मौका तड़त रही
रोवाँ केवांच कै पुड़िया मा
धोती-कोने गठियाये रही
ऊ रहा, चपरहा जात रहा
मुँह-दाबे पान चबात रहा
कपड़ा निकारि जुट्टा उप्पर
ताले मा खूब नहात रहा
चल दिहिस पहिरि उज्जर कपड़ा
खजुवाय लाग कुछ देहीं मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

यक जने बहुत उधिरान रहे
परिसहिजै खेत चराय लियैं
लुलिउ-लंगड़ी कां ना छोडै
वै छेड़ दियैं, गरियाय दियैं
बउदही, कलूटी, मति-मारी
गन्धाय उमर यकदम बारी
चितपावन पंडित जी अधेड़
भुखमरी म पाँव किहिन भारी
तब्बौ सब वनकै गोड़ छुवैं
वै कथा सुनावैं घर-घर मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा.

__आशाराम जागरथ

[जारी….]

One thought on “पाहीमाफी [९] : उलौहल-कनफुसौवल

Leave a Reply

Your email address will not be published.