पाहीमाफी [४] : मौज-मस्ती, काम-काज

sssssसिसिलेवार ढंग से पोस्ट कीन जाति, आशाराम ‘जागरथ’ कय रचना, ‘पाहीमाफी’ कय ई चौथा हिस्सा आपके सामने रखा जात अहय। यहिके पहिले केरी कड़ियन क पढ़य खातिर यहिपै क्लिक करैं : “पहिला भाग” ,  “दुसरका भाग”  , तिसरका भाग। तौ आज यहि चौथे हिस्सा कय पाठ कीन जाय औ अपने बिचार से अवगत करावा जाय। : संपादक
_____________________

मौज-मस्ती, काम-काज

हल्ला होत भोरहरी होय
दोगला चलै सिंचाई होय
थोरै देर चलाई हमहूँ
देहियाँ खूब पसीना होय
सूख जाय कुछ ताल कै पानी
लइकै धोती मछरी छानी
कनई मा जब पाई सुतुही
जियरा गद-गद काव बखानी
घर सइतै कां चिक्कन माटी
ढोय कै लाई पलरी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बरहा ऊँच बनावा जाय
ढेंकुर–कूँड़ चलावा जाय
गोहूँ अउर केराव कय खेत
हाथा से हथियावा जाय
अन्नासै काँ दीहन बोय
पानी आवत बाटै रोय
हाली-हाली जाय कै देखा
बरहा कहूँ कटा न होय
कउनौ खानी फसल जो होई
आधा मिली बटाई मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

फरवारे मा दँवरी नाधे
लोगै गोहूँ दाँवै साथे
करैं बैल मिलि घुमरपरैया
मुँह मा जाबा बांधे-बांधे
अखनी-पैना-पाँची-पाँचा
झौवा-झौली-खाँची-खाँचा
बभनन के खरही पै खरही
बोझै-बोझ अलग से गाँजा
बाकी जात बेचारे ताकैं
लेहना पीटैं कोने मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

चलै न पछुवा ना पुरवाई
मारि परौता करी ओसाई
भूसा चमकै ढूह सोहाय
दमकैं अन्नपूर्णा माई
कुचरा लेहें बटोरी  कूँटी
कूँटी मा गूंठी ही गूंठी
छूटै खुलरा ताकै दाना
जब मुंगरी से वोका कूटी
कुछ छिटका कुछ गिरा अनाज
बीन धरी हम मौनी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

गड़ही मा खोदा गय चोंड़ा
फूटा पानी छाती चौड़ा
फरवारे कै बैल पियासा
पानी पीयैं जोड़य-जोड़ा
कोहा भै बारी-फुलवारी
वहमां खूब हुवै तरकारी
ढोय-ढोय चोंड़ा से पानी
सींचैं बेटवा औ महतारी
उज्जर-हरियर अउर बैगनी
भाटा लउकै पाती मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

गरमी कै बेहाल महीना
माथे तल-तल चुवै पसीना
‘ढोलिहा’ साथे भइंस चराई
छाँहे बइठे गप्प लड़ाई
लाठी बजा-बजा वै गावैं
हमहूँ साथे तान भिड़ाई
गोरु चरत दूर जो जावैं
वन्हैं हाँक नगीचे लाई
बगिया सुर्र-कबड्डी खेली
भंइस जुड़ावैं पानी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

गले जुआठा नाक नकेल
हर नाधी औ जोती खेत
‘वा-वा’ कहे दाहिना समझै
‘तता-तता’ से बाँवा बैल
कुर्ह कै मूंठ पकरि यक हाथे
सीधी कूड़ रही हम साधे
पाछे-पाछे गोहूँ बोवत
माई चलैं सिकहुली लादे
दुइयै बाँह जो दियै हेंगाय
चमकै खेत दुपहरी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

सरसइया पै चढ़ै केराव
मेर-मेर कै फूल फुलाय
पोपटा से गदराई छीमी
मौनी लइकै तूरा जाय
आपन खेत रखावा जाय
चिरई हुर्र, उड़ावा जाय
अक्सा अउर केराव कै फुनगी
खोंट-खांट कै खावा जाय
छौंकी घुघुरी, भात-निमोना
रोजै रोज बनै घर मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

चैत माह कटिया भदराय
झुर-झुर-झुर-झुर बहै बयार
बड़े भोरहरी खेते जाई
कुर-कुर-कुर-कुर करी कटाई
ऊपर चटक चनरमा चमकै
दूर-दूर तक गोहूँ दमकै
दुई-यक पहँटा काटी हमहूँ
बोझा बान्ही रसरी लइकै
घर भै मिलि कै खरही गांजी
ढोय-ढोय फरवारे मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

हमरौ छपरा लिऔ छवाय
काव कहत बाट्या तू भाय
हूँड़-भाँड़ मा हमहूँ तोहरे
कामे कबहूँ जाबै आय
बटवारा मा भीत उठाइन
दादा वोकां रहे छवाइन
पाँच साल के उप्पर होई गै
छपरा मा बस बाय कराइन
अबकी नाहीं होई गुजारा
पातर-पुतर पलानी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

ताले बीचे कनई म् जाय
रहंठा दबा के दिहिन भिगाय
भूसा ताईं एक मंडिला
पांडे ऊंचे दिहिन छवाय
पांच जगह रहंठा कै बाती
कौंची अइंठ बनाइन टाटी
गोल-गोल लम्मा कै गोला
आरी-आरी पाटिन माटी
चुरकी वाला टोपा पहिरे
खड़ा मंडिला घामे मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

का हो तू काव करत बाट्या
मेला नाहीं देखै जाब्या
भिनसारे से देखत बाटी
खटिया कै बाध बरत बाट्या
वै झारि कै बिड़वा डारि दिहिन
बोले नियरे आवा बइठा
फिर बोले बोली ना बोलौ
माचिस लइ ल्या बीड़ी दागा
तोहरे माफिक कउनौ हमार
बेटवा कमात ब दिल्ली मा ?
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

घासी ताँईं खेते  जाई
मेंड़े बइठा गाना गायी
सरसौ कै कँड़री तूरि-तूरि
छिलका निकारि कच्चै खाई
‘गुलुरू’ गोहराइंन आय जाव
झौवा लै हमरे खेत चलौ
सरसौ-केराव कां छोड़ि-छोड़ि
अंकरा- बहलोलिया छोल लियौ
सरसइया वोहरी गझिन बाय
थोरै उखारि ल्या सागी कां
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

बिन खाये गयन खेत गोड़य
दुपरिया भये घरे आयन
निकरी बिलार चूल्ही मा से
दरवज्जा खुल्ला हम पायन
बरतन-कुरतन छितरान परा
घर मा ना रहे परानी क्यौ
बटुली बोलिस ठन-ठन गोपाल
कुछ काछि-कूछ कै खाय लियौ
मोटकी रोटिया बा तुहै अगोरत
उप्पर धरी सिकहुली मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा
unnamed गन-गन जेठ दुपहरी बाय
बइठा येक गपोड़ी बाय
आवा, छाँहें बइठ बगल मा
घेरि-घेरि बतियावा जाय
वत्ते चला ना बइठा हीयाँ
गिरत बाय पेड़े से कीयाँ
गोटी खेल ल्या हमरे साथे
धरे हई इमली कय चीयाँ
मजे-मजे अब जूड़ हुवत बा
चलै का चाही घासी कां
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

 __आशाराम जागरथ

[जारी….]