‘पाहीमाफी’ [२] : दसा-दुरदसा औ दयू कै रिसियाब-मानब

उहै निमिया.
उहै निमिया.

सिसिलेवार ढंग से पोस्ट कीन जाति, आशाराम ‘जागरथ’ कय रचना, ‘पाहीमाफी’ कय ई दुसरका हिस्सा आपके सामने रखा जात अहय। यहिके पहिले केरी कड़ी पढ़य खातिर यहिपै क्लिक करैं : “पहिला भाग” । तौ आज यहि दुसरे हिस्सा कय पाठ कीन जाय औ अपने बिचार से अवगत करावा जाय। : संपादक
___________________________ 

  • दसा-दुरदसा

जहाँ जाति बसै हर जाती मा
जाती के बोली – बाती मा
जाने, अनजाने, कारन मा
यक दूजे  के व्यहारन म़ा
जहाँ बसै हिकारत, भेदभाव 
कनखी नजरन की आँखी मा
भुखमरी – गरीबी फरै जहाँ
खेती  के काल – कलाही मा
ऊ गाँव कबहुँ बिसरत नाहीं
जहाँ लोटेन धुरी – माटी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बसा रहैं चाहे अगल-बगल
पर जाति-जाति कै काम अलग
वइसै देखय मा एक गाँव
पर अन्दर-अन्दर अलग-थलग
केव ऊँच रहै केव नीच रहै
केउ ऊँच-नीच के बीच रहै
केउ सबके बीच मा पूजनीय
केउ सबके लिये अछूत रहै
मरनी-करनी, सादी-ब्याहे
इक कौम दिखै इक जाती मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

नजर-नजर मा बसै हिकारत
पहिया’ भेद-भाव कै भारत
पैदा करैं जाति मेहरारू
मरद वैमनस-इर्खा-स्वारथ
ऊपर देखे मा सदभाव
अन्दर-अन्दर गहिरा घाव
बसै गाँव मा जाति-समूह
सबमा छूत-छात कै भाव
काम न आवैं गैर-बिरादर
सादी अउर बियाहे मा 
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बाभन-ठाकुर कै धाक रहै
मेहनत कै काम हराम रहै
हर कै मुठिया जौ पकरि लियैं
तौ पूरे गाँव मजाक उडै
खेलैं-कूदैं औ मौज करैं
चुरकी पै बहुत गुमान करैं
दुसरे कै हिस्सा खाय-खाय
कुछ लोगै बहुत मोटान रहैं
कुछ रहैं अकेलै दीन-हीन
बस चन्दन – टीका माथे मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बढ़ई-धोबी-नाऊ-लोहार
गाँव भरेन कै सेवादार
लेहना अउर तिहाई बदले
काम करैं वै सालौंसाल
बस बिगहा दुइ बिगहा खेत
खेती होय बटइया जोत
भूमिहीन बन रहैं चमार
बभनन के खेतै ही खेत
तेली-तमोली-अहिर-कहार
करैं गुजारा जाती मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

जेतने मा जे जेस जहां रहै
वतनै मा ऊ परेसान रहै
केव कहै बिना घी ना खाबै
केहू के घर ना नोन रहै
तब्बौ लोगै खुसहाल रहैं
हँसि-हँसि कै खूब मजाक करैं
खाना-कपड़ा के आगे वै
कउनौ ना सोच-विचार करैं
भगवान भरोसे जियत रहे 
कोसैं सब खाली किस्मत का
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

धोबी पासी कोरी चमार
वोऊ करैं जाति कै मान
यक दूजे से छूत मनावैं
अपुआँ दियैं ऊँच अस्थान 
अधोगति पै सब चुपचाप
भीतर-भीतर रहैं निरास
बोलै कै हिम्मत ना होय
बाभन-ठाकुर खड़े हों पास
हीन भावना तुनकमिजाजी
बाढ़ै खूब गरीबी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा                   

चूल्हा काव चढ़ा बा माई ?
जात हई खोदै बिरवाही
पेटे मा चूहा कूदत बा
दइ द्या रोटी सुक्खै खाई
बथुआ जाय खोंटि लायू तू
सगपहिता कय दाल बनायू
कोदई क् भात ज्वार कै रोटी
देसी घी से छौंक खियायू
नीक-सूक दिन जल्दी बहुरे
गल्ला होई खेती मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

गाँव-गाँव मा नसा तमाम
बीड़ी-खैनी, गाँजा-भाँग
कहूँ पै गुड़-गुड़ हुक्का बोलै
कहूँ खाय केव दोहरा-पान
एक दसहुनी बाभन गांवै
महुआ-दारू नीक बनावैं
छूत-अछूत कां यक्कै घाटे
खटिया पै बैठाय पियावैं
चिलम-चुनौटी अउर सरौता
झूलै थैली-थैली मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बरगद तरे मदारी आवा
डुग-डुग-डुग-डुग करै दिखावा
नाचै बानर लाठी लइकै
बंदरिया कै करै मनावा
ना मानें पै लाठी भांजै
हियाँ-हुवाँ बंदरिया भागै
सबके आगे जाय-जाय फिर
लिहें कटोरा पइसा मागै
वोकरे पहले खिसक लेई जब
कौड़ी नाहीं जेबी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

कातिक कै जोता खेत रहा
जाड़ा मन माफिक होत रहा
दुइ गाँव के हुम्मा-हुम्मी मा
वहि रोज कबड्डी होत रहा
हमरी ओरी कै यक पट्ठा
गोड़छन्हिया बहुतै नीक रहा
जेका ऊ पकरि कै छान लियै
समझौ फिर पाला दूर भवा
इरखा मा गोड़वै तूरि दिहिन
यक जने जानि कै खेलत मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा ‘पाहीमाफी’ मा

  • दयू रिसियाने – मनाये माने

बोलअ थै चिरई चौं-चौं-चौं
भूँकत बा कुकुरौ भौं-भौं-भौं
पगुराब छोड़ि अनकत बाटे
कनवा पारे बैलै दूनौं
उपराँ बादर बा लाल-लाल
घेरत बा बहुत डरावत बा
लागत बाटै लंगडी आन्हीं
पच्छू वोरी से आवत बा
चूल्हा कै आग बुझाय दियौ
ईंहन धइ लेत्यू छाहें मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

आइस लंगडी आन्हीं चढ़ि कै
खर-खुद्दुर-धुंध-धूलि-धक्कड़
दिन कै उजियारा आन्हर भै
चौतरफा अन्धियारा – अंधड़
टोवैं मनई तगड़े-तगड़े
सूझै ना लगहीं खड़े-खड़े
हमहूँ यक जगहाँ फँसा रहेन
बाँसे के कोठी मा जकड़े
यक पेड़ महा कै उखरि परा
गिरि परा धड़ाम से बगली मा 
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

परलय टरि गै, अन्हियारा कम
बचि गयन मौत के मुंह से हम
पूरे देहीं गर्दय – गरदा
जिउ आन भवा आन्हीं  गै थम
खरिहान से कुलि भूसा उड़ि गै
कपड़ा – लत्ता – खरही – छपरा
गिरि परे तमाम पेड़-पालव
सीवाने मा सारस पटरा
यक बूढ़ा उड़ि कै परी रहिन
डहरी के बगले गड़ही मा 
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बिजुरी चमकै, गरजै  बादर
बरसै पहिला पानी असाढ़
गड़ही-गुड़हा उफनाय जाय
भरि जाय लबालब खेत-ताल
रतिया बीतै भिन्नहीं होय
लाली वाले सूरज निकरैं
पीयर-पीयर धोती पहिरे
खुब टर्र-टर्र मेघा बोलैं
हफ्तन गूंजै काने अवाज़
बसि जाय नज़ारा आँखी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

पानी ना बरसै सावन जब 
टोटका सब लोग तमाम करैं
लरिकन कै टोली निकरि जाय
सीधा पिसान घर-घर उगहैं
मिलि लोट-पोट गावैं लरिके
उल्टा मेघा हाथे पकरे
काल–कलौटी, उज्जर धोती
कारे मेघा पानी दइ दे’
पोखरा मा जायं नहांय, बनै
भौरी–भर्ता तब बगिया मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

unnamed

कुछ बड़े घरन कै मेहरारू
राती मा खेते हर नाधैं
केव बैल बनै दहिना, बावां
केऊ हर कै मुठिया थाम्हैं
धइ लियैं जुआठा कान्हें पै
जोतैं निकारि कै पहिरावा
‘बड़कऊ’, ‘फलाने’ कहाँ हया
पानी लइकै जल्दी आवा
आये डेरात मुला भागि लिहिन
धइ गगरा दूर जमीनी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

 __आशाराम जागरथ

[जारी….]

10 thoughts on “‘पाहीमाफी’ [२] : दसा-दुरदसा औ दयू कै रिसियाब-मानब

Leave a Reply

Your email address will not be published.