`पाहीमाफी’ [१] : परिचय, गूँग गवाह औ’ पहिया गाँव-कुदरती ठाँव.

यहि रचना पै अबहीं कुछ तनकीदी तौर पै न कहब। हड़बड़ी होये। रचना पुराय क अहय, कुछय हिस्सन से रूबरू भयेन। यहिकै लगभग पचास इस्टैंजन का देखे के बाद ई जरूर कहब कि अस रचना अबहीं तक नाहीं भै बा। लोकभासा अवधी मा यहिके लिखा जाय कय खास तुक हय जौन आसाराम जागरथ जी नीचे बताये अहयँ। यहि रचना का देखिके हम खुसी से खिलि उठा हन। जोखिम उठाय के एतना जरूर कहा चाहब कि ई रचना अपने बिसय औ सिल्प के लिहाज से आधुनिक अवधी साहित्य कै यक उपलब्धि हुवय कय पूरी चुनौती पेस करति अहय। कयिउ हिस्सन मा आप यहिका पढ़िहैं। कल्ले-कल्ले हाजिर करब। यहिकै इजाजत दियै खातिर आसाराम जागरथ जी कय बहुत आभारी अही। : संपादक

capture-20161220-200439
नीम कय पेड़: पाहीमाफी कय गूँग गवाह.

[पितामह पेड़ नीम का : हमारे बचपन के बुजुर्ग भी अपने बचपन में इस पेड़ को इसी ‘आकार- प्रकार’ का देखा हुआ बताते थे. इसकी उम्र के बारे में कुछ भी नहीं बता पाते थे. यही एक पेड़ है जो 1981 में घाघरा के कटान से जमींदोज हो चुके ‘पाहीमाफी’ गाँव का एकमात्र गवाह बचा है.  इसके पोर-पोर में ग्रामीण जीवन के सदियों के सांस्कृतिक-सामाजिक-आर्थिक दशा के राज छिपे हैं. हर साल बरसात के मौसम में थोड़ा-थोड़ा करके दक्षिणी छोर के खेत खलिहानों को पहले ही काट चुकी नदी 1981 में गाँव पर हमला बोलती है. मैं हाई स्कूल पास कर चुका था और 18 किलोमीटर दूर के एक स्कूल में दाखिला लेना था. कटान को देखते हुये पिता जी के विरोध के वावजूद माँ ने जाने की इजाजत दे दी . मैं सुबह पैदल निकल गया और दाखिला लेकर सीधे नाना के घर सहायता के लिए चला गया. कुल  लगभग 40 किलोमीटर पैदल चल कर ननिहाल पहुंचते-पहुंचाते रात हो गयी. दूसरे दिन सुबह कुछ मददगार आदमियों के साथ जब मैं अपने गाँव पहुंचा तो देखता हूँ कि मेरा घर नहीं था. कटान में कट चुका था. बस केवल उजड़ी हुई ‘चन्नी’ बची थी. और मेरी आँखों के सामने वह भी देखते-देखते जमीदोज हो गयीे. माँ-बाप-भाई-बहन मिलकर जो कुछ सर-सामान बचा पाये थे , इसी पेड़ के नीचे धरा था.

दो-एक साल इसी पेड़ के बगल एक पाण्डेय जी की जमीन में झोपड़ी धर कर गुजारा किया. फिर परिस्थितियों ने गाँव छुड़वा दिया. जन्म देने वाला गाँव, पाहीमाफी में बचपन के 18 साल गुजरे. परन्तु उमड़ते-घुमड़ते नज़ारे हमेशा नाचते रहते हैं. कुछ लिखने की कोशिश में आत्मकथात्मक शैली में यह अवधी कविता ही बन पा रही है जिसका कुछ अंश आपके सम्मुख हैं.  इसकी रचना अभी भी जारी है और किसी भी अंतिम नतीजे पर नहीं है.  इसलिये यह रचना अपनी लिखावट और बुनावट में किसी भी संशोधन के अधीन है. वैसे मेरी एक कविता-संग्रह  ‘कविता कलाविहीन प्रकाशित हो चुका है जो हिन्दी में  है. परन्तु ‘पाहीमाफी यक गाँव रहा’ मेरी मातृभाषा अवधी में  है. क्योंकि मैं समझता हूँ कि जली-भुनी संवेदनाओं और भावनाओं को उकेरने में यह एक ससक्त माध्यम है। : आशाराम ‘जागरथ’ /19.12.2016]
_______________________________________________________

  • गूँग गवाह

खाये-पीये खूब अघाये
बीते दिन कै याद सताये
टहनी- टहनी, पाती-पाती
बहुत जने कै राज दबाये
कोऊ आवै, कोऊ जाये
कोऊ छाँहे बइठ छहाँये
काली चौरा के आँगन मा
बिन कुम्हलाये, बिन मुरझाये
जड़े जमाये कऊ दशक से
गड़ा बा गहरी माटी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा.

सुख-दुःख-गम खाय के भयौ बड़ा
हे नीम ! तू काहे हरा-भरा
केव न्याय करै, अन्याय करै
तोहरे बरदास्त कै पेट बड़ा
तोहरे सँग्हरी कै साथी सब
मरि-उखरि परे या झुराय गये
जब काल कै गाल बनी नदिया
जड़-मूल समेत समाय गये
तबहूँ तू हयो मुंह बांधें खडा
केतना कुछ घटा कहानी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

टुकुर-टुकुर यकटक ताकत
हे नीम ! तू पेड़ पुरान भयौ
केउ चोर रहै या साह रहै
सबका पनाह तू देत रह्यौ
तू भयौ पुरनियाँ काव कही
तोहरे बा लेखा और बही
मनहग चाहे रिसियान रहौ
अब तुहैं गवाही दियै क परी
बा मोट-मोट ई हाथ-गोड़
कब आई केकरे कामे मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

केतना लोगै आवा होइहैं
थकि-चूरि पथिक बइठा होइहैं
दुनिया औ देश – जवारी कै
बतकही बहुत गावा होइहैं
मरि गये बहुत पइदा होइकै
अब दियौ बताय बहुत होइगै
यकतरफा धन-धरती बटिगै
कइसै सब छोट-बड़ा होइगै
तू ज्ञान कै हौ भण्डार भरा
सच-सच सच बोलि दियौ सबकां
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

  • पहिया गाँव : कुदरत कय ठाँव

‘पाहीमाफी’ येक था गाँव
‘पहिया’ वोकर दूसर नावं
बस्ती कै तहसील हर्रैया
मेर – मेर कै जाति बसैया
पूरब ‘चन्हा’ व ‘बानेपुर’
ताल किनारे ‘कटकवारपुर’
दक्खिन पुरवा ‘अचकावापुर’
‘पच्छू टोलिया’ औ ‘सरवरपुर’
बहुत दूर से चली डहरिया
मिलै नदी की घाटी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

‘पहिया’ खुब सँचरा गाँव रहा
कुदरत कै सुन्दर ठाँव रहा
खुब महा-महा, पीपर-बरगद
इमली-पाकड़ कै छाँव रहा
पूरब – पच्छू – उत्तर बगिया  
व दक्खिन दूर घाघरा नदिया
चारिउ ओर झाड़ – झंखाड़
गड़ही – गड़हा, ताल – तलैया
केहू कै घर नरिया-खपड़ा
केव करै गुजारा मड़ई मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

सधुवाइन कै सुन्दर कुटिया
थोरै दूर हुआँ से नदिया
अरहर-गंजी-जड़हन-धान
दूर – दूर  फैला मैदान
फरै बकाइन, चिटकै रेड़
गाँव म बत्तिस पीपर-पेड़
खाले-तीरे, डहर किनारे
झरबेरी कै पेडै  पेड़
पीपर-नीचे, सोर पे औंढ़े
नींद लगै पुरवाई मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

गहिर गड़हिया छटा अनोखा
बाँस-कोठि के बीच महोखा
टापैं बगुला, कूदैं मेघा
हरियर घास पै बोंकै-बोंका
बेहया-सरपत कै झलकुट्टी
बनमुर्गी-पड़खी-फुरगुद्दी
नेउर अउर चौगड़ा घूमैं
कहूँ पे सुग्गा कहूँ किलहटी
चालि-चालि कै भिट्ठ लगावैं
मूस-लोखड़ी झाली मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

जामुन के पुलुई मा लुकाय
कोयल कू-कू-कू करै पाठ
कहुँ चोंच मारि कै छेद करै
काटै कठफोड़वा कठिन काठ
झोंका पुरुवाई कै पाये
पीपर कै पाता हरहराय
कहुँ खाय-खाय डांगर डटि कै
डैना फैलाये गिद्ध घमाय
राती मा साही सैर करैं
दिन मा कुलि घुसी रहैं बिल मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

बीनै लोगै लकड़ी-कंडी
कोऊ चेहरै आलू-गंजी
हाथी दूर-दूर से  आवैं
पीपर-टैरा खूब चबावैं
चिक्कन-चौड़ी डहर दूर तक
चली जाय ‘टेल्हा’ के घर तक
देखे बड़ा मनोहर लागै
गोरु-बछरू भागैं सरपट
कडों-कडों जब करैं कड़ाकुल
झुंड कै झुंड सिवाने मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

लागै जब कुटिया कै मेला
भीड़ हुवै खुब ठेलम-ठेला
कँडिया-ओखरी-तवा-पहरूवा
बल्लम-फरसा-आरी-फरूहा
कूँड़ा-हाँड़ी, भुरका-मेलिया
बिकै गड़ासा, खुरपा-हँसिया
पलटा-करछुल, बल्टी-गगरा
पीतल-फूल कै लोटा-थरिया
दिहें मेंहावर, चलैं लजाउर
लरिका दाबे कांखी मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

सेंनुर-टिकुली दिहें मेहाउर
दुलहिन थरिया म बीनैं चाउर
बोलिन सासू कां फुसिलाय
थोरै पइसा दइद्या आउर
जाबै हम ‘रमरेखवा’ मेला
खाबै गरम-ज़लेबी, केला
सासू बोलिन भीर हुवअ थै
धक्का-मुक्की ढेलम-ढेला
नाहीं तौ फिर हमहूँ जाबै
तीसी बाँध ल्या गठरी मा 
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

पट्ठे दंगल दाँव लगावैं
लोगै तीतर-भेंड़ लड़ावैं
फुलरा वाला करधन बान्हे
गेद-गेदहरै धावत जावैं
छौना साथे घूमै सुअरी
चलैं झुंड मा भेड़ औ बकरी
उबहन टांगे माई हमरे
चली जायं छलकावत गगरी
कोदइल संग मुरैला नाचैं
रूसा वाले झाली मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

भिटहुर बगल घूर कै गड्ढा
वहीँ किनारे उपरी-कंडा
भीत से चिपकी चिपरी चमकै
जेस तरई कै गोरखधंधा
छपरा चढ़ै देसौरी कोहड़ा
सेम-तरोई-लौकी-कोहड़ा
सरपुतिया-बोंड़ा कै झोप्पा
नेनुवा लटकै खड़ा लड़ेहरा
बथुआ  बहुत लमेरा जामै
गूमा खेते-खेते मा
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

unnamedहम गयन अजोध्या के मेला
सब पूछैं काव-काव देख्या

बोलेन खाकी वर्दी मा हम
बानर के बीच पुलिस देखा
यक लाल – लाल  टोपी वाला
आगे से डंडा पटक दिहिस
पीछे बांड़ा बानर नेपान
केरा कै झोरा छोरि लिहिस
मनई ही मनई तर-उप्पर
बतकही सुनायन हम सबकां 
यकतनहा नीम कै पेड़ गवाह
बचा बा पाहीमाफी मा

[जारी….]

 

12 thoughts on “`पाहीमाफी’ [१] : परिचय, गूँग गवाह औ’ पहिया गाँव-कुदरती ठाँव.

Leave a Reply

Your email address will not be published.