बतकहीं : डॉ. श्यामसुन्दर मिश्र “मधुप” से बातचीत पर आधारित एक संक्षिप्त प्रस्तुति..!

डॉ. श्यामसुन्दर मिश्र “मधुप”

सीतापुर(उ.प्र.) जिले के सरैना-मैरासी ग्राम में सन्‌ १९२६ को जन्मे डॉ. श्यामसुन्दर मिश्र “मधुप” जी समकालीन अवधी साहित्य के विशिष्ट हस्ताक्षर हैं। मधुप जी का पूरा जीवन अवधी भाषा-साहित्य के सेवार्थ समर्पित रहा। इन्होंने रचना और समीक्षा दोनों ही स्तरों पर अवधी को समृद्ध किया। ‘अवधी का इतिहास’ लिखने का श्रेय भी मधुप जी को जाता है। अवधी रचनाओं के कई संग्रह लिख चुके मधुप जी सीतापुर जनपद में रहते हुये अद्यापि सृजनरत हैं। प्रस्तुत पोस्ट मधुप जी से ज्योत्स्ना जी की मुलाकात पर आधारित है। ज्योत्स्ना जी भी सीतापुर की रहनेवाली हैं और इस पोर्टल की सहयोगी भी हैं। मधुप जी से यह बतकहीं इसप्रकार है:

आज के युग में अवधी भाषा का क्या महत्व है?

वर्त्तमान काल भाषाओँ के संरक्षण और परिवर्द्धन का काल है. प्रत्येक राष्ट्र में अपनी संस्कृति अपनी जातीय धरोहर को संचित, संरक्षित, करने की ललक है, अवधी तो हमारे राष्ट्र की एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण भाषा है जिसमें गोस्वामी तुलसीदास जी ने रामचरितमानस जैसा महाकाव्य रच कर विश्व को एक विलक्षण महाग्रंथ दिया है जिस पर आज भी गद्य एवं पद्य में अत्यंत महत्त्वपूर्ण ग्रन्थ लिखे जा रहे हैं.

अवधी और समकालीन खड़ी बोली साहित्य में आप क्या अंतर पाते हैं?

जहाँ वर्त्तमान काल में खड़ी बोली में प्रबंध महाकाव्य और खण्डकाव्य का अभाव दिखाई देता है वहीँ अवधी में प्रबंध धारा पूर्ण वेग से प्रवाहमान है. कृष्णायन, गांधीचरितमानस, हनुमत विनय, पारिजात, बभ्रुवाहन, ध्रुवचरित आदि आधुनिक अवधी प्रबंध काव्य हैं, जो हिंदी के खजाने को दोनों हाथ भरने में सक्षम हैं.

आधुनिकता के दृष्टिकोण से देखें तो अवधी में खड़ी बोली की समानांतर काव्य धारा पुराने स्वरुप में दिखती है. क्यों?

जहाँ तक समकालीन अवधी काव्यधारा का प्रश्न है, आधुनिक अवधी कवि अच्छा लिख रहे हैं. “घास के घरौंदे”, मेरा काव्य संग्रह आधुनिक काव्य धारा का ही प्रतिनिधित्व करता है. समकालीन अवधी कवियों में प्रमुख रूप से सीतापुर के युवा कवि भूपेन्द्र दीक्षित का नाम उभर कर आया है. “नखत” में उनकी काव्य प्रतिभा की बानगी देखी जा सकती है. मेरे “अवधी का इतिहास” में भी कुछ रचनायें हैं जिन्हें पढकर अवधी काव्य के संदर्भ में नयी अनुभूतियाँ होंगी. इसके अलावा डॉ. भारतेंदु मिश्र, डॉ. ज्ञानवती, सत्यधर शुक्ल आदि आधुनिक अवधी के जाज्ज्वल्यमान नक्षत्र हैं.

अवधी गद्य अवधी पद्य की तुलना में कम है, इसका क्या कारण है?

ऐसा नहीं है की अवधी गद्य लिखा नहीं जा रहा है, वह खूब लिखा जा रहा है, परन्तु प्रकाश में कम आया है. डॉ. ज्ञानवती का “गोमा तीरे” आधुनिक अवधी का प्रथम मौलिक उपन्यास है जो अप्रकाशित है. गोमती नदी की प्रष्ठभूमि पर एक आम आदमी के दुःख दर्द की कहानी, संवेदनहीन राज्यतंत्र, अय्याश नेता और अभावों में छटपटाता जन-जीवन अवध क्षेत्र का रेखाचित्र है गोमा तीरे. ये छपेगा तो तेहेल्का मच जायेगा. वैसे भारतेंदु मिश्र, रश्मिशील, डॉ. राम बहादुर, भूपेन्द्र दीक्षित आदि अवधी में खूब लिख रहे हैं. भविष्य को इनसे बड़ी आशाएं हैं. स्व. दिनेश दादा भी अवधी गद्य का भण्डार भर रहे थे.

अवधी को आज भी उसका उचित स्थान नहीं मिला, इस सन्दर्भ में आप का क्या कहना है?

अवधी को कभी राज्याश्रय नहीं मिला. इतना प्रचुर साहित्य होते हुए भी अन्य भाषाओं के मध्य इसको समुचित स्थान नहीं मिल पाया. जो नेता अवध क्षेत्र मैं है, वे अवधी का दाय नहीं चुका सके हैं. अवधी साहित्याकारों में इतनी गुटबंदी है कि समर्पित साहित्यकार भीड़ में पीछे छिप जाता है. अच्छे रचनाकार को तथाकथित खेमेबाज़ लेकिन साहित्य के दीवालिये उभरने ही नहीं देते. सीतापुर की रचनाधर्मिता तो खासकर इसकी शिकार है. महाविद्यालयों के रिटायर्ड अध्यापक इनके सिरमौर हैं जो इस प्रवृत्ति को बढ़ावा दे रहे हैं.

अवधी प्रेमियों के लिए आपका सन्देश:

प्रतिभा को कोई रोक नहीं सकता, उसका तो विस्फोट होगा ही. अवधी को अवधी के गुटबाजों से खतरा है और किसी से नहीं. अवधी को जातिवाद, क्षेत्रीयतावाद और ओछी मानसिकता से दूर रखना होगा. अवधी का भविष्य उज्ज्वल है.

*****

मधुप जी के साथ ज्योत्स्ना जी..

मधुप जी के बरवै की कुछ पंक्तियाँ:

नदिया लावइ पानी, पी खुद जाइ।

ख्यात परे सब सूखइँ, तरु कुम्हिलाइ॥

बादर गरजहिं तरपहिं, बरसइँ नाँहि।

पपिहा मरइ पियासा, ताल सुखाँहि॥

किहेउ बिधाता कस यहु, तोरु-मरोरु।

भैंसि वहे की जेहिकी, लाठिम जोरु॥

उगिलइ आगि चँदरमा, सुर्ज अँध्यार।

मछरी बैठि बिरउना, पिक मजधार॥

कागा पूजन देखिक, पिकी उदास।

चहुँ दिसि दधि के रूप म, बिकै कपास॥ 

                      *****

कुछ और बरवै:

सून पड़े दफ्तरवा, हाकिम लेट

बात न करें अधीक्षक, बिन कुछ भेंट।

सर बापू तस्बिरिया पंजन केरि

देउ पांच ते कम तौ देबइं फेरि।

सोची हाय सुरजिया का परिनाम

बिकें गरिबवा घर-घर, कस दिन दाम।

मारें मौज बड़कवा, लूटइं देस

मरे भूख ते बुढवा, सूत पर केस।

लूटिन कस परदेसिया भारत देस

लूटइं आज स्वदेसिया जो कुछ सेस।

[स्वराज्य से] 

17 thoughts on “बतकहीं : डॉ. श्यामसुन्दर मिश्र “मधुप” से बातचीत पर आधारित एक संक्षिप्त प्रस्तुति..!

  • July 2, 2011 at 3:25 pm
    Permalink

    मधुप जी से यी बतकही नीमन रही मुला रही बड़ी थोर!
    कभौं विस्तार से बतियाई न !

    Reply
  • July 2, 2011 at 3:35 pm
    Permalink

    सून पड़े दफ्तरवा, हाकिम लेट

    बात न करें अधीक्षक, बिन कुछ भेंट।……..सुंदर लेखन है मदुप जी का ….आज के परिपेक्ष्य में सीधी और सच्ची बात !!!!!!!!!!!

    Reply
  • July 2, 2011 at 3:39 pm
    Permalink

    वाह भैया, बहुत नीक काम कीन्हेव या बतकही चित्र सहित दीन्हेव औ मधुप जी के खुबसूरत बिचार तो कमाल है जिउ जुडाय गवा।बहुत बधाई।

    Reply
  • July 2, 2011 at 3:54 pm
    Permalink

    अवधी का भविष्य उज्जवल है क्यूंकि इसका कोष समृद्ध है ,यह बात अलग कि राज्याश्रय न हो किन्तु भोजपुरी की भांति इस को भी प्लेटफार्म मिलने की ज़रूरत है ,जिस समय भी आलम्बन मिला यह यूँ छितरेगी कि आम मानस पटल पर छा जायेगी ऐसा मेरा मानना….बस ज़रूरत डंटे रहने की है| अभी मैं श्री राजू रंजन प्रसाद का एक कमेन्ट पढ़ रहा था ” पढ़े-लिखे लोग ही जातिवादी, नस्लवादी और सम्प्रदायवादी होते हैं.” मुझे अच्छा लगा कि यदि हम ही अपनी सुरक्षा न करेंगे तो कोई बाहर से थोड़ी न आएगा ….

    Reply
    • July 2, 2011 at 7:28 pm
      Permalink

      राजू रंजन जी का वह कमेंट मैंने भी पढ़ा, और लिखा: “ मानने का मन नहीं कहता पर यह यथार्थ मानना ही होगा !”

      Reply
  • July 2, 2011 at 4:12 pm
    Permalink

    ‘मधुप’ जी से बतकही बहुत नीकि लागि मुला वहिते ज़्यादा उनके बरवै पसंद आँय ! बहिन ज्योत्स्ना जी क हमरी तरफ से धन्निबाद पहुँचाएँ !
    अवधी के बारे मा जऊँ चिंता ज़ाहिर कीनि गै है,वहि पर नई पीढ़ी मा शायद ही कोउ धियान दे ! आपै जईस कउनो ‘मठाधीश’ अउर मिल जय तो अवधी क कल्यान होइ जाइ !

    Reply
    • July 2, 2011 at 7:30 pm
      Permalink

      या लेव ! हम कहाँ मठाधीस हन्‌ ! 🙂 राम बचावैं मठाधीसी से !

      Reply
  • July 3, 2011 at 4:50 am
    Permalink

    मारें मौज बड़कवा, लूटइं देस
    मरे भूख ते बुढवा, सूत पर केस।
    लूटिन कस परदेसिया भारत देस
    लूटइं आज स्वदेसिया जो कुछ सेस।

    बेहतर…

    Reply
  • July 3, 2011 at 10:27 am
    Permalink

    मेरे गृह-नगर के ‘मधुप’ जी को प्रणाम ! उन्होंने स्थानीय गुटबाजी के विषय में जो कुछ भी कहा ,अक्षरशः सत्य है ! जाने कउन लड़ुआ धरे हैं जिनके बदे यह छीना-झपटी और कुकुराँव मचाये रहत हैं सब ! हर जगह लूट मची है , कहूँ धन की ,कहूँ यश की ! औ वहऔ बड़े- बड़े सरस्वती माता के वरद- पुत्रन मा ! हद्द है ! खैर, हियाँ ‘मधुप’ जी की वार्ता के साथ ज्योत्सना जी पधारी हैं तौ उनका बधाई और सुभकामना अउर तिरपाठी जी का धन्यबाद !

    Reply
  • July 12, 2011 at 6:42 am
    Permalink

    धन्यवाद अमरेन्द्र भाई….वार्ता को ब्लॉग में स्थान देने के लिए…तथा “मधुप” जी जैसे विद्वान व अनुभवी साहित्यकार के विचारों से सभी को अवगत कराने के आभार……

    अवधी भाषा के सभी पाठकों को यहाँ आने हेतु बहुत-बहुत आभार! तथा उपस्थिति दर्ज कराने हेतु विशेष धन्यवाद!

    Reply
  • Pingback: दुखद ई है कि हम खुद अपनी प्यारी भासा का बोलै से हिचकिचात हन ~ ‘पद्म श्री’ बेकल उत्साही « अवधी कै अर

  • August 26, 2011 at 2:11 am
    Permalink

    अमरेन्द्र जी ,अच्छा है वार्तालाप

    मैंने आपको अवधी की कविताओं के कलेक्शन के लिए कहा था ,कई महीने बीत गए.

    Reply
  • September 22, 2011 at 6:40 pm
    Permalink

    मधुप-ज्योत्सना बतकही पढ़ी के आनंद कै अनुभूति भई। बरवै पढ़ेन तs बूझि गयेन कि हैन बड़का विद्वान। सही कहे हैन…..लूटइं आज स्वदेसिया जो कुछ सेस।

    Reply
  • September 22, 2011 at 11:18 pm
    Permalink

    अमरेंद्र जी आपका पोस्ट अच्छा लगा । भाषा-शैली भी मन को भा गई । धन्यवाद ।

    Reply
  • September 23, 2011 at 7:47 pm
    Permalink

    मधुप जी से बतकही बहुत नीक लागि ….
    बरवै…..बहुत बढ़िया बढ़िया

    Reply
  • Pingback: अवधी साहित्य की समस्या और आचार्य कवि श्याम सुंदर मिश्र ‘मधुप’ | अवधी कै अरघान

Leave a Reply

Your email address will not be published.